आगर मालवा में रिश्ते तार-तार: 7 साल तक पिता की बेरहमी सहती रही बेटी, स्पाई कैमरे में कैद की करतूत, खिलाता था कैप्सूल

ByHitech Point agency

May 16, 2024
आगर-मालवा. मध्य प्रदेश के आगर मालवा जिले में इंसानियत और रिश्तों को तार-तार करने वाला घिनोना घटनाक्रम सामने आया है. एक पिता ने 7 सालों तक बेटी को अपनी हवस का शिकार बनाया. बेटी ने हिम्मत कर स्पाई कैमरे की मदद से पिता की करतूत को कैद किया. जब इस बात की भनक आरोपी पिता लगी तो उसने अपने भाई के साथ मिलकर लड़की को अगवा कर धमकाया. फिर जैसे-तैसे पीड़िता पुलिस के पास पहुंची और शिकायत दर्ज कराई. जानकारी के अनुसार आगर मालवा जिले के एक गांव में रहने वाला परिवार कर्ज के तले दब गया. परिवार का मुखिया पत्नी और बच्चों के साथ दूसरे राज्य में पहुंच गया. फिर एक दुकान पर नौकरी कर परिवार का संचालन करने लगा.
इस दौरान पिता की नीयत में खोट आ गई और उसने अपनी ही 16 साल की किशोरी बेटी को हवस का शिकार बना डाला. आरोपी पिता जब भी मौका लगता तब बेटी के साथ कुकर्म करता रहता. रिश्तों की शर्म के चलते किशोरी अपने ऊपर हो रहे जुल्म को किसी के सामने कह नहीं पाई. इस बीच हिम्मत कर पूरी कहानी पीड़िता ने अपनी सहेली को बताई.
कैमरे में कैद की पिता की करतूत
सहेली के कहने पर पीड़िता ने मौका पाकर ऑनलाइन हिडन कैमरा मंगाया और पिता की करतूत को कैमरे में कैद कर लिया. इसकी भनक लगने पर पिता ने पीड़िता को धमकाते हुए वीडियो डिलीट करने का दबाव बनाया. इस बीच पिता ने अपने भाई के साथ मिलकर उसे धमकाया और घर में ही बंधक बना लिया.
सालों से अपने पिता की करतूतों को झेल रही पीड़िता के अनुसार आरोपी उसे हार्मोन्स के कैप्सूल भी देता था. उसे खाने के बाद उसे अजीब बेचैनी होने लगती थी. उसने गुगल पर कैप्सूल की जानकारी ली तो उसे पता चला कि वो सेक्सुअल हार्मोन्स के कैप्सूल थे. उसके बाद उसने वो कैप्सूल खाने बंद कर दिए. वहशी पिता की हरकतें यहीं नहीं रुकी. वह बेटी को मोबाइल पर अश्लील फिल्में और मेसेज भी भेजता था.
पीड़िता जैसे-तैसे आरोपी पिता और काका के चंगुल से निकलकर पुलिस के पास पहुंची और पूरे घटनाक्रम की जानकारी पुलिस को दी. कोतवाली पुलिस ने प्रारंभिक जांच कर पास्को सहित अपहरण की धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया. वहीं अन्य आरोपी काका की तलाश जारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed